अंत्‍येष्टि व्‍यय
 
 


हितलाभ

अंत्‍येष्टि व्‍यय

अंत्‍येष्टि व्‍यय क्‍या होते हैं?
इस घटक में मृत बीमाकृत व्‍यक्ति की अंत्‍येष्टि पर हुए व्‍यय की राशि का एकमुश्‍त भुगतान समाहित है।

देय राशि कितनी होती है?
इस हितलाभ की एकमुश्‍त राशि मृत बीमाकृत व्‍यक्ति की अंत्‍येष्टि पर हुए वास्‍तविक खर्च, जो 5000/- रुपये से अधिक न हो, के समान है।

क्‍या कोई अंशदान शर्ते होती है ?
इस हितलाभ के लिए किसी अंशदान शर्त की आवश्‍यकता नहीं है, इस हितलाभ की स्‍वीकार्यता की एकमात्र शर्त है कि मृत व्‍यक्ति अपनी मृत्‍यु के समय बीमित होना चाहिए। इस प्रकार स्‍थाई अपंगता हितलाभ की प्राप्ति पर ही एक बीमाकृत व्‍यक्ति के संबंध में अंत्‍येष्टि व्‍यय देय है, चाहे वह अपनी मृत्‍यु के समय किसी कारखाने या स्‍थापना, जो क.रा.बी. अधिनियम के अन्‍तर्गत हो, में नियुक्‍त न हो।

अंत्‍येष्टि व्‍यय किसको देय होते है ?
इस प्रकार के व्‍यय मृत बीमाकृत व्‍यक्ति के परिवार के सबसे बडे जीवित सदस्‍य को देय होते हैं। यदि बीमाकृत व्‍यक्ति का अपना परिवार नहीं था या वह अपनी मृत्‍यु के समय अपने परिवार के साथ नहीं रह रहा था तो हितलाभ उस व्‍यक्ति को देय होगा जो मृत बीमाकृत व्‍यक्ति की अंत्‍येष्टि का खर्च वास्‍तव में वहन कर रहा है।

अंत्‍येष्टि खर्च के लिए दावा कैसे करें?
खर्चों का दावा करने के लिए, दावेदार को अपना दावा मृत बीमाकृत व्‍यक्ति के शाखा कार्यालय को निम्‍नलिखित दस्‍तावेजों के साथ तीन महीने के भीतर व्‍यक्तिगत रुप से या डाक द्वारा भेजना चाहिए।

(अ) बीमाकृत व्‍यक्ति के मृत्‍यु के प्रमाण के रुप में मृत्‍यु प्रमाण पत्र जो बीमा चिकित्‍सा अधिकारी / बीमा चिकित्‍सा व्‍यवसायी या एक अस्‍पताल के अन्‍य ऐसे चिकित्‍सा अधिकारी या किसी अन्‍य संस्‍थान के चिकित्‍सा अधिकारी द्वारा जारी किया गया हो जिसने बीमाकृत व्‍यक्ति की मृत्‍यु के समय देख-रेख की हो या मृत्‍यु के बाद शरीर का परीक्षण किया हो; (शमशान / खब्रस्‍तान या नगरपालिका अधिकारियों द्वारा जारी किया गया मृत्‍यु प्रमाण पत्र या गॉंव आदि की प्रमाणित प्रतिलिपि मृत्‍यु रिकॉर्ड भी मृत्‍यु के साक्ष्‍य के रुप में स्‍वीकृत किए जाते हैं।)
(ब) दावेदार का घोषणा पत्र या तो
(i) कि वह मृत बीमाकृत व्‍यक्ति के परिवार का सबसे बडा जीवित सदस्‍य है एवं मृत व्‍यक्ति की अंत्‍येष्टि का खर्च वहन किया है या

(ii) यदि दावेदार परिवार के सबसे बडे जीवित सदस्‍य के अलावा कोई अन्‍य सदस्‍य हो तो मृत बीमाकृत व्‍यक्ति का अपनी मृत्‍यु के समय परिवार नहीं था या वह अपने परिवार के साथ नहीं रह रहा था और दावेदार ने ही वास्‍तव में मृत बीमाकृत व्‍यक्ति की अंत्‍येष्टि का खर्च वहन किया है। यह घोषणा किसी समक्ष प्राधिकारी द्वारा प्रतिहस्‍ताक्षरयुक्‍त होनी चाहिए।

 
       
   

होम  | हमारे बारे में  | क रा बी योजना | हितलाभडिस्‍कलैमर | घोषणासंपर्क करें

कॉपी राइट, क रा बी नि, चेन्‍नै, तमिलनाडु, भारत
अद्यतन June 29, 2007 00:41:51